Tarif

Law Blog

मुस्लिम विधि के स्रोत | Sources Of Muslim Law In Hindi

मुस्लिम विधि के स्रोत | Sources Of Muslim Law In Hindi मुस्लिम कानून एक व्यक्तिगत कानून है जो केवल मुसलमानों पर लागू होता है। यह भारत में अदालतों द्वारा मुसलमानों पर सभी मामलों में नहीं, बल्कि केवल कुछ मामलों में ही…

Law Blog

वारेन हेस्टिग्ज की 1772 की न्यायिक योजना का वर्णन | अदालत व्यवस्था क्या है?

वारेन हेस्टिग्ज की 1772 की न्यायिक योजना वॉरेन हेस्टिंग्स एक औपनिवेशिक प्रशासक था, जो ईस्ट इंडिया कंपनी के कर्मचारी के रूप में भारत आया था। 1772 से 1785 की अवधि के दौरान, उन्होंने बंगाल के राज्यपाल के रूप में काम किया…

Law Blog

मुशा का सिद्धान्त, क्या मुशा का हिबा किया जा सकता है इसके अपवाद और हिबा का प्रतिसंहरण

मुशा का अर्थ – मुशा शब्द का शाब्दिक अर्थ – भ्रम है, इसकी व्युत्पत्ति ‘सुयूम’ शब्द से मानी जाती है| मुस्लिम विधि के अनुसार हिबा के सम्बन्ध में इसका अर्थ – ‘किसी सम्पत्ति में अविभाजित भाग’ से है। यानि ऐसी हर प्रकार की संयुक्त अविभाजित सम्पत्ति…

Law Blog

विधिक अधिकार और विधिक कर्तव्यों का विधिशास्त्र के अनुसार वर्गीकरण

विधिक अधिकार और विधिक कर्तव्य विधिक अधिकार (legal right) और विधिक कर्तव्य (legal duty) दोनों एक ही सिक्के के दो पहलू है अथवा अधिकार एंव कर्तव्य एक ही नियम एंव घटनाओं के भिन्न भिन्न पहलू है| सभी विधिशास्त्रियों का मत…

Law Blog

विधिक अधिकार (Legal Right) किसे कहते है, परिभाषा व आवश्यक तत्व

विधिक अधिकार (Legal Right) – मानव सभ्यता के विकास का वास्तविक श्रेय विधि और उसकी निषेधात्मक प्रक्रिया को जाता है जिसने व्यक्ति को समाज के सदस्यों के रूप में अपने कर्तव्यों और अधिकारों का ज्ञान कराया है। जब से मानव समाज…

Law Blog

भारत की न्याय व्यवस्था | JUDICIAL SYSTEM OF INDIA

भारत की न्याय व्यवस्था भारत की न्याय व्यवस्था (Judicial System Of India) – भारत की न्याय-व्यवस्था – प्राचीन भारत की न्याय व्यवस्था के बारें मै धर्मग्रन्थों  और न्याय प्रशासन के विषय में पर्याप्त जानकारी मिलती है। उस समय समाज में धर्म…

Law Blog

हिन्दू विधि के स्रोत कोन कोनसे है

हिन्दू विधि के स्रोत क्या है? हिन्दू विधि के स्रोत हिन्दू विधि को विश्व की प्राचीनतम विधि व्यवस्था होने का श्रेय प्राप्त है। यह लगभग 6000 वर्ष पुरानी विधि व्यवस्था है। प्राचीन मत के अनुसार विधि एवं धर्म का अटूट संबंध…

Law Blog

लोक हितवाद क्या है | लोकहित वाद का विस्तार एवं उद्देश्य

लोकहित वाद क्या है? परिभाषा, उद्देश्य एंव इसका विस्तार   लोक हितवाद क्या है — लोकहित वाद 20 वीं सदी के उत्तरार्द्ध एवं 21वीं सदी के प्रारम्भ की एक महत्त्वपूर्ण अवधारणा है। जिसमे जन साधारण को सस्ता एवं शीघ्र न्याय उपलब्ध…

Law Blog

अतिचार किसे कहते है। what is trespass in hindi

अतिचार का अर्थ – शब्दकोश के अनुसार अतिचार का अर्थ – सीमा से आगे बढ़ जाना, अतिक्रमण करना, ग्रहों की शीघ्र चाल (जब कोई ग्रह किसी राशि के भोगकाल को समाप्त किए बिना ही दूसरी राशि में चले जाना), अनुचित कार्य…

Law Blog

विधि व्यवसाय क्या है | भारत में विधि व्यवसाय का इतिहास

नमस्कार दोस्तों,  विधि व्यवसाय एक कठिन विषय है। इसकी भाषा एवं उपबन्ध अत्यन्त क्लिष्ट माने जाते हैं। विधि का अध्ययन कर पाना हर व्यक्ति के लिए संभव नहीं है। योग्य, अनुभवी एवं प्रशिक्षण प्राप्त व्यक्ति ही इसे आसानी से समझ सकते…